दुकान में चुदाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम राहुल है और में 24 साल का हूँ ! मैं बिहार का रहने वाला हूँ और यही छोटी से कपड़ो की दूकान में काम करता हूँ, जंहा सिर्फ लड़कियों के कपडे मिलते थे !

तो ये कहानी दुकान में चुदाई आज से एक महीने पहले की हैं जब नेहा नाम की बहुत सुन्दर लड़की हमारी दुकान पर कपडे लेने आयी. यु तो कंही सुन्दर लड़किया दुकान पर रोजाना आती जाती रहती है पर नेहा मैडम की बात ही अलग थी!

नेहा दुकान पर सूट लेने आयी थी ! 4 -5 सूट दिखने के बाद नेहा को पिले रंग का सूट पसंद आया. पर वो थोड़ा लूसे था तो मैंने उनका नाप लेकर सूट फिट करने को खा जिसमे वो मान गयी!

मैंने उनका नाप लिया जो की कुछ इस तरह था छाती 36 , कमर 24 , और पिछवाड़ा भी 36 का ही था, जो की किसी हीरोइन से कम नहीं था ! नाप लेने के बाद अगले दिन दुकान पर सिर्फ मैं अकेला था और सब छुट्टी पर तो नेहा अपना सूट लेने आयी थी!

मैंने उन्हें उनका पीला सूट दिया तो उन्होंने ट्रायल रूम चाहिए था जिसमे वो अपने कपड़े पहन कर देख सके ! मैंने ट्रायल रूम दिखाकर कुण्डी ऊपर की तरह है कहकर चला गया !

कुछ देर बाद उन्होंने मुझे आवाज लगायी और कहा की फिटिंग ठीक है न. वो ट्रायल रूम से बहार आयी और मुझे अपना सूट दिखने लगी. पिले सूट में तो मैडम बिलकुल ज़हर लग रही थी , फिर मैंने एक चीज नोटिस करि की मैडम ने जल्दीबाजी में ब्रा नहीं पहनी और वो ब्रा ट्रायल रूम के दरवाजे पर टंगी हुई थी !

अब पिले सूट में उनके निप्पल साफ़ उबर कर दिख रहे थे ! सूट थोड़ा पारदर्शी था और ब्रा न पहनने से उनके बूब्स मुझे साफ दिखाई पद रहे थे ! उनके बोस इतने टाइट थे की मैं उन्ही में खो गया इतने में नेहा ने फिरसे आवाज लगायी की बताओ कैसी लागरी हूँ मैं. मैंने फ़टाक से कहा जी बिलकुल फिटिंग बराबर है एकदम जच रहा है आपके ऊपर !

उसके बाद वो ट्रायल रूम वापिस चली गयी और मैं अपना काम वापिस करने चला गया! थोड़ी देर में मैं कुछ सामान लेने गया जो की ट्रायल रूम के बहार था ! जैसी मैं सामान लेने गया तो मैंने देखा की ट्रायल रूम का दरवाजा हल्का सा खुला हुआ था !

मैंने अंदर देखा तो नेहा बिना किसी कपड़े के नंगी खड़ी हुई थी ! क्या गजब क फिगर था नेहा का दूध सी सफ़ेद कसीला बदन मानो उसका शरीर चिल्ला चिल्ला कर कह रहा हो की राहुल अंदर आओ और मुझे बाहो में भर लो !

मैंने आज तक इतने खूबसूरत लड़की को बिना कपड़ों के नहीं देखा था! उसके निप्पल पिंक थे और बोस एकदम गोल और खड़े ! पिछवाड़ा एक दम गोल और गोरा मनो कह रहा हो की कोई आकर मुझे मसले और थपेड़े मारे !

उसके निचे एक बी बाल नहीं था पूरा शरीर मस्त चिकना था ! वो खुदको शीशे में ऐसे निहार रही थी जैसे वो चाहती हो की कोई उसकी इस ख़ूबसूरती को देखे और तारीफ करे! जो की मैं देख तो रहा था पर तारीफ करने में रिस्क बहुत था !

नेहा अचानक से पैंटी पहनने लगी और पैंटी में पैर फसने से उसका बैलेंस बिगड़ा और वो दरवाजे की और गिरी ! दरवाजे पर कुण्डी नहीं थी तो वो सीधा बहार आकर गिरी जंहा में खड़ा था और मैंने तुरंत उन्हें अपनी बाहो में पकड़ लिया !

वो दूध सी सफ़ेद नेहा बिना कपड़ो के मेरी बाहो में पड़ी थी ! वो घबरायी हुई थी की ये क्या हो गया , मैंने उन्हें उठाया और अपनी आंखे बंद करके उन्हें सँभाल लिया और वो चुप चाप खड़े मुझे हेरैनी से देख रही थी ! मैंने बिना उसको देखे वंहा से चला गया और कुछ नहीं बोला !

वो कपड़े पहन कर बाहर आयी और उन्होंने मुझे देखा की मैं अपने काम में खोया हुआ जैसा कुछ हुआ ही न हो ! उन्होंने मुझसे बोलै की तुम चाहे तो मुझे देख सकते थे पर तुमने देखा क्यों नहीं?

मैंने उत्तर दिया की आप घबरई हुई थी और में आपको और घबराहट नहीं देना चाहता था ! इस बात पर वो मुस्कुरा गई और दुकान से जाने लगी. फिर उन्होंने मुझे पलट कर देखा और मैं भी उन्हें देखकर मुस्करा गया !

वो जाते जाते एकदम से वापिस मुड़ी और मेरे पास आकर मेरे गाल पर किस करदिया और थैंक यू कहा. कुछ देर वही खड़े होकर नेहा ने मुझे ऐसे घुरा जैसे वो आँखों से मुझे संकेत दे रही हो की अब वो त्यार है मुझे अपना बदन दिखने के लिए और नेहा हसकर जैसे ही जाने लगी मैंने उनका हाथ पकड़ कर खेचा और उन्हें अपनी बाहो में लेलिया !

दुकान का लंच का टाइम हो गया था तो मैंने शटर गैर दिया और मेरे पास बहुत टाइम था ! नेहा वोंही खड़ी मेरा इन्तजार कर रही थी शर्माकर और मैं तुरंत उसके पास गया उसने चूमने लगा !

मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिए और ऐसे चूमा जैसे उसके शरीर का सारा रस उसके होंठ से पी लू. वो भी मुझे चुम रही थी मानो सदियों से प्यासी हो! कुछ देर चूमने के बाद मैं अपनी शर्ट उतरने लगा और नेहा मेरी आँखों में आंखे डालकर चेहरे पर कातिल स्माइल लेकर अपने कपडे उतारने लगी !

जिसे देखकर मुझे और ज्यादा जोश आ गया ! उसने अपना सूट उतरा और ब्रा उतर कर साइड में फेक दी मनो आज वो फुल फॉर्म में है. और जैसे ही मैं अपनी पंत उतरने लगा उसने भी अपना नाड़ा खोल दिया और अपनी पैंटी उतर के साइड में फेक दी !

वो भागकर मेरे ऊपर ऐसे कूदी जैसे कोई भूखी शेरनी हो और मैंने उसे अपनी बहो में कसकर पकड़ लिया ! वो मेरे पुरे बदन को ऊपर से निचे तक चुम रही थी !

पहले मेरा माथा, मेरे होंठ, मेरी ठुड्डी, मेरा गला, मेरी छाती, मेरा पेट और मेरी पैर पर किस करते करते उसने मेरा प्राइवेट पार्ट मुँह में ले लिया ! मेरी बॉडी में एकदम से जैसे करंट दौड़ गया हो ! काफी देर तक वो मेरा प्राइवेट पार्ट चूमती, चाटती और चुस्ती रही !

वो मेरे लिंग के टोपे के अंदर बार बार जीब दाल रही थी ऐसा मैंने आजतक न कहि सुना और न कबि देखा था ! अब मेरा लिंग बहुत कड़क हो चूका था ! मैंने उसे उसे टेबल पर लिटा दिया जिस पर मैंने उसे सूट दिखाया था! मैंने अपने लिंग को उसके छेद में घुसा दिया और उसकी चीख निकल गयी !

अह्ह्ह्ह मजा आ रहा है मेरा लिंग डालते ही उसने ऐसे कहा ! मैं जोर जोर से उसके झटके मारने लगा और वो मेरी आँखों में देखती रही ! हर झटके के साथ उसके बूब्स जोर जोर से हिल रहे थे !

मैंने उसके बूब्स पर जोर से काटा और वो चिल्लाई आह्ह धीरे धीरे काटो ! अब हम पसीने से पुरे गीले हो गए थे और उसने मुझे धक्का दिया और ट्रायल रूम में मेरा लिंग पकड़ कर मुझे ले गयी !

वंहा जाकर वो घोड़ी बन गयी और कहा अब करो मुझे खुदको शीशे में देखना है ! ट्रायल रूम में हर तरफ शीशे में हम दोनों दिख रहे थे और मैंने उसे घोड़ी बनाकर अचे से रगड़ दिया !

करीब आधे घंटे तक सेक्स करने के बाद मैंने उसे खड़ा करके शीशे पर चिपकाकर सेक्स करना शुरू किया और जोर जोर से करने लगा ! थोड़ी देर बाद में झड़ गया और मैंने उसे अपनी बाहो में कसकर पकड़ लिया !

उसके बाद हमने कपड़े पहने और नंबर एक्सचेंज करके नेहा दुकान से चली गयी. जाने से पहले उसने मुझे हुग और किस किया और कहा जल्दी मिलेंगे ! उसके बाद हमने कहि बाद सेक्स किया जो की आपको पार्ट 2 में जानने को मिलेगा !

Leave a Comment